महिला ने कहा- पति को छोड़कर मैंने एक लड़के से संबंध बना लिए…अब मुझे पछताना पड़ रहा है … क्योकि

0
625
loading...
loading...

लोग कई बार ऐसी गलतियां कर देते हैं जिनके बाद में उन्हें पछताना पड़ता है। अपने ही किए गए काम को लेकर बाद में खेद होता है।

ऐसी ही एक महिला ने डॉक्टर से पूछा है मेरी उम्र 35 वर्ष है। जिस युवक से मेरी बचपन में शादी हुई थी उसे छोड़ कर मैंने किसी अन्य युवक से संबंध बना लिए क्योंकि पति दिखने में बदसूरत था।

फिर भी उस ने मुझे कुछ नहीं कहा और न ही उस के घर वालों ने। वह हमेशा मुझे बुलाता रहा। जिस युवक के लिए मैं ने यह सब किया

अब मुझे छोड़ कर किसी अन्य युवती से शादी कर चुका है और यहां तक कि अब वह मेरा फोन भी नहीं उठाता है। मैं बहुत बेचैन व परेशान हूं क्योंकि मैं ने उस के साथ शारीरिक संबंध तक बना लिए थे।

अब मुझे अपनी गलती का एहसास हो रहा है। मैं अपने पति के पास वापस जाना चाहती हूं लेकिन जाने में हिचक हो रही है? जवाब : बचपन के विवाहों का कई बार नुकसान होता है

और पति व पत्नी दोनों को इस का खमियाजा भुगतना पड़ता है। जिस तरह आप की भावनाओं को ठेस पहुंची है उसी तरह पति की भावनाओं को भी चोट पहुंची होगी।

आप तो दूसरे पुरुष के कारण अपना सबकुछ लुटा चुकी हैं। तभी तो कहा जाता है कि हर चमकने वाली चीज सोना नहीं होती। अब पछताने से कुछ नहीं होगा।

आप अपने पति और घर वालों से दिल से माफी मांगें और पति के घर में लौट जाएं और फिर कभी अपने स्वार्थ के लिए किसी को बलि का बकरा न बनाएं।

पति पत्नी के रिश्ते में हैवान बनता शक :

शक एक ऐसी लाइलाज बीमारी होती है जिसका कोई इलाज नहीं, अगर एक बार यह किसी को खास कर पतिपत्नी में से किसी को अपनी चपेट में ले ले तो वह इंसान को हैवान बना सकती है।

हाल ही में कुछ ऐसी ही घटना हैदराबाद में देखने को मिली जहां अवैध संबंधों के शक पर एक महिला ने अपने पति को ऐसी सजा दी जिसका दर्द शायद वह अपनी जिन्दगी में कभी नही भुला पाएगा।

आप यह जानकर दंग रह जाएंगे की ३० साल की इस आरोपी महिला ने पति से विवाद होने पर चाकू से उसका प्राइवेट पार्ट काटने की कोशिश की जिसके चलते उसके पति को काफी गंभीर चोटें आर्इं।

ऐसा ही एक अन्य मामला दिल्ली के निहाल विहार इलाके में भी सामने आया जहाँ पति ने ही अपनी पत्नी का मर्डर कर दिया। पकड़े जाने पर पति ने सारी बातें पुलिस के सामने खोल दीं।

उसने साफ किया कि उसे अपनी पत्नी के चरित्र पर उसे शक था।आपको जानकार हैरानी होगी कि दोनों ने लव मैरिज की थी,

लेकिन पति को लगता था कि उसकी पत्नी की दोस्ती कई लड़कों से है। इस बात को लेकर अक्सर दोनों में झगड़ा होता था।

टूटते परिवार बिखरते रिश्ते :

शक न जाने कितने हँसते खेलते परिवारों को तबाह कर देता है। दांपत्य जीवन जो विश्वास की बुनियाद पर टिका होता है। उसमे शक की आहट जहर घोल देती है

हाल के दिनों में अवैध संबंधों के शक में लाइफ पार्टनर पर हमले और हत्या करने की घटनाएं बढ़ रही हैं। मनोवैज्ञानिक इसके पीछे संयुक्त परिवारों के बिखरने को एक बड़ा कारण मानते हैं।

दरअसल, संयुक्त परिवारों में जब पति पत्नी के बीच कोई भी मन मुटाव होता था तो घर के बड़े उसे आपसी बातचीत से सुलझा देते थे, या बड़ों की उपस्थिति में पतिपत्नी का झगडा बड़ा रूप नहीं ले पाता था

जबकि आज की स्थिति में जहाँ पति पत्नी अकेले रहते है आपसी झगड़ों में वे एक दूसरे पर हावी होने की कोशिश करते हैं वहां उनके आपसी सम्बन्धों में शक की दीवार को हटाने वाला कोई नहीं होता।

ऐसे में शक गहराने के कारण पति-पत्नी के रिश्ते दम तोड़ने लगते हैं वर्तमान लाइफस्टाइल जहाँ जहाँ पति पत्नी दोनों कामकाजी हैं और दिन के आधे से ज्यादा समय वे घर से बाहर रहते हैं

घर से बाहर उनका विपरीत सेक्स के साथ उठाना बैठना होता है। ज्यादा समय साथ रहने से उनके बीच आकर्षण जन्म लेता है और ऐसे में वे बाहरी सम्बन्ध दोनों के बीच शक का आधार बनते हैं।

ऐसे में पति पत्नी दोनों को एक दूसरे पर विश्वास रखना होगा और सामने वाले को उस विश्वास को कायम रखना होगा।

बिजी लाइफ स्टाइल :

शादी के बाद जहां वैवाहिक रिश्ते को बनाए रखने में पति और पत्नी दोनों की जिम्मेदारी होती है वहीं इसके खत्म करने में भी दोनों का हाथ होता है।

शादी के कुछ वर्षों बाद जब दोनों अपनी रूटीन लाइफ से बोर होकर और जिम्मेदारियों से बचने के लिए किसी तीसरे की तरफ आकर्षित होने लगते हैं

यानी एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर रखते हैं, तो वैवाहिक रिश्ते का अंत शक से शुरू हो कर एक दूसरे को शारीरिक नुकसान पहुंचाने और हत्या तक पहुंच जाता है।

कई बार परिवार की जिम्मेदारियों के बीच फंसे होने के कारण जब पति पत्नी जिंदगी की उलझनों को सुलझा नहीं पाते तो उनके बीच अनबन होने लगती है

और उस के लिए वे बाहरी संबंधों को जिम्मेदार ठहराने लगते हैं। उनके दिमाग में शक घर करने लगता है। धीरे-धीरे शक गहराता है और झगड़े बढ़ जाते हैं।

यदि कोई उन्हें समझाए तो शक और सारी समस्याएं खत्म हो सकती हैं, लेकिन, एकल परिवार में उन्हें समझाने वाला कोई नहीं होता। इस कारण हालात मारपीट, हमले और हत्या तक पहुंच जाते हैं।

तुम सिर्फ मेरे हो वाली सोच :

लाइफ पार्टनर के प्रति अधिक पजेसिव होना भी शक का बडा कारण बनता है। आज के माहौल में जहां महिलाएं और पुरुष ऑफिस में साथ में बड़ी बड़ी जिम्मेदारियां संभालते हैं

ऐसे में उनका आपसी मेलजोल होना स्वाभाविक है । ऐसे में पति या पत्नी में से जब भी कोई एक दुसरे को किसी बाहरी व्यक्ति से मेलजोल बढ़ाते देखता है तो उस पर शक करने लगता है

और उसे यह बर्दाश्त नहीं होता कि उसका लाइफ पार्टनर जिसे वह प्यार करता है वह किसी और के साथ मिले जुले या बात भी करे क्योंकि वह उस पर सिर्फ अपना अधिकार समझता है।

इस तरह की मानसिकता संबंधों में कडवाहट भर देती है। पति या पत्नी जब फ़ोन पर किसी अन्य महिला या पुरुष का मेसेज या कॉल देखते हैं तो एक दुसरे पर शक करने लगते हैं।

भले ही वास्तविकता कुछ और ही हो लेकिन शक का बीज दोनों के सम्बन्ध में दरार डाल देता है जिसका अंत मारपीट और हत्या जैसी घटनाओं से होता है।

अब यह आप पर निर्भर करता है कि आप तकनीक का सदुपयोग आपसी रिश्तों में नज़दीकी लाने में करें या इन्हें रिश्तों में दूरियां बनाने का कारण बनायें? फैसला आपका है। इनपुट सरिता से

loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here