SHARE

नमस्कार मित्रो। ..कैसे है आप सब। .. दोस्तों आज हम आपको देश से जुडी कुछ ऐसी बात बताने जा रहे है जिसे जानना आपके लिए बहुत जरूरी है ! मित्रो आपने देखा होगा कि देश में कुछ लोग अपनी कारके बोनट पर राष्ट्रीय ध्वज या अपवाद स्वरुप जम्मू – कश्मीर को छोड़कर तिरंगा लगते है

लेकिन शायद आप नहीं जानते होंगे कि देश का कानून हर किसी नागरिक को गाडी तिरंगे लगाने की परमिशन नहीं देता इसलिए देश का हर नागरिक अपनी कार में भारत का राष्ट्रीय ध्वज नहीं लगा सकता है।

बता दें कि देश के कुछ ऐसे विशेष नागरिक हैं जो भारतीय ध्वज दंड संहिता के अनुसार इसको लगाने का अधिकार रखते हैं।

चलिए हम आपको बताते हैं कि देश के कौन से ऐसे नागरिक हैं जिन्हें भारतीय ध्वज लगाने का अधिकार है।

दोस्तों जैसा कि आप जानते है कि भारत एक लोकतांत्रिक देश है यंहा पर प्रधान का राज होता है मतलब प्रधानमंत्री ही देश का सेर्वेसर्बा होता है देश में वैसे तो राष्ट्रपति होता है लेकिन राष्ट्रपति की सीमित शक्तिया दी गयी है

इस लिए देश के प्रथम नागरिक होने के नाते भारत के राष्ट्रपति को अपनी गाडी पर तिरंगा लगाने की परमिशन मिलती है

1. भारत के राष्ट्रपति

देश के महामहिम राष्ट्रपति को संविधान भारतीय राष्ट्रीय ध्वज इस्तेमाल करने की इजाजत देता है अपने वाहन पर तिरंगा लगाने का अधिकार भारत के राष्ट्रपति के पास है। वह अपनी कार में राष्ट्रीय ध्वज लगाते हैं।

इसके अलावा उनके कार के नंबरों के लिए भी कुछ अलग ही नियम हैं अगर आपने कभी गौर किया हो कि भारत के महामहिम राष्ट्रपति की गाडी बिना नंबर की होती है अर्थात उनकी गाड़ी RTO से रजिस्ट्रट नहीं होती

अगर देश में दूसरे देश से कोई मेहमान आता है और भारत सरकार की कार में कोई विदेशी गणमान्य व्यक्ति यात्रा करता हैतो भारत का राष्ट्रीय ध्वज कार की दाहिनी तरफ लगता है और विदेशी व्यक्ति के देश का राष्ट्रीय ध्वज कार की बाईं तरफ लगता है।

2. भारत के उप-राष्ट्रपति

जैसा कि आप जानते है कि देश के राष्ट्रपति के बाद दूसरा अहम पद उप-राष्ट्रपति का होता है और उप- राष्ट्रपति ही राजयसभा सदन का सर्वोच्च नेता होता है हमारे देश का संविधान उपराष्ट्रपति को भारत का राष्ट्रीय ध्वज लगाने का अधिकार देता है

3. गवर्नर और लेफ्टिनेंट गवर्नर्स

जैसा कि आप जानते है कि सभी राज्य के पास गवर्नर और लेफ्टिनेंट गवर्नर्स होते है जिन राज्यों में केंद्र का शाषण है वहाँ लेफ्टिनेंट गवर्नर्स उस राज्य का सेर्वेसर्व होता है और जो राज्य पूर्ण राज्य वाले है

उनमे राज्यपाल सेर्वेसर्व होता है इसलिए देश का संविधान भारत के हर राज्य के राज्यपाल और लेफ्टिनेंट गवर्नर्स को अपनी कार में भारतीय राष्ट्रीय ध्वज लगाने की अनुमति होती है।

4. विदेशों में भारतीय मिशन के प्रमुख

जैसा कि दुनिया के सभी देशो में अपवाद स्वरुप कुछ देशो को छोड़कर अपने देश का प्रतिनिधि करने एक अफसर की नियुक्ति होती है जिन्हे राजदूत भी कहा जाता है इसलिए भारतीय मिशन और पोस्ट के अध्यक्ष जो विदेशों में स्थिति होते हैं उन्हें भी अपनी कार पर राष्ट्रीय ध्वज लगाने का अधिकार होता है।

5. भारतीय राष्ट्रीय ध्वज लगाने का अधिकार भारत के प्रधानमंत्रियों औ मुख्यमंत्रियों के पास भी होता है।

इसके अलावा लोकसभा अध्यक्ष, राज्यसभा उपाध्यक्ष, लोकसभा उपाध्यक्ष, विधान परिषद के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष, विधानसभा के अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के पास भी यह अधिकार होता है।

6. भारतीय राष्ट्रीय ध्वज लगाने का अधिकार भारत के मुख्य न्यायाधीश, हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट के जजों के पास भी होता है।

जैसा कि देश के सभी जिम्मेदार व्यक्तियों चाहे रास्ट्रपति , मुख्यमंत्री , हाई कोर्ट – सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के आड़ अपनी गाडी नटिनॉल फ्लैग तिरंगे को लगाने का अधिकार होता है

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY